धान का कटोरा

CM विष्णुदेव साय का दामाखेड़ा हेलीपैड पर हुआ आत्मीय स्वागत

रायपुर। जिले के सिमगा विकासखंड अंर्तगत दामाखेड़ा में माघपूर्णिमा के अवसर पर आयोजित होने वाले विश्व प्रसिद्ध सतगुरू कबीर संत समागम, दामाखेड़ा मेला में पहुंचे मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय का हेलीपैड में स्थानीय जनप्रतिनिधियों और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने गर्मजोशी से स्वागत किया गया। हेलीपैड पर अतिथियों का पूर्व विधायक शिवरतन शर्मा, आईजी अमरेश कुमार मिश्रा, कलेक्टर चंदन कुमार, एसएसपी सदानंद कुमार सहित बड़ी संख्या में पहुंचे जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीणों ने गुलदस्ता भेंटकर आत्मीय स्वागत किया। इस मौके पर उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा, खाद्य मंत्री दयालदास बघेल, लुण्ड्रा विधायक प्रबोध मिंज भी उपस्थित रहे।
और भी

CM विष्णुदेव साय को वन मंत्री ने वन विकास निगम की लाभांश राशि 2.26 करोड़ रूपए का चेक सौंपा

रायपुर। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय को आज छत्तीसगढ़ विधानसभा परिसर स्थित उनके कार्यालय कक्ष में वन मंत्री श्री केदार कश्यप ने छत्तीसगढ़ राज्य वन विकास निगम के लाभांश की राशि 2 करोड़ 26 लाख रुपए का चेक सौंपा।
मुख्यमंत्री श्री साय ने वन विकास निगम के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि  उन्होंने कहा कि वन विकास निगम राज्य में हरित क्षेत्र के प्रसार और पर्यावरणीय विकास के लिए महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। निगम ने किसी भी वित्तीय संस्थान से कोई ऋण भी नहीं लिया है। यह लाभ कमाने वाली सरकारी संस्था है। वन विकास निगम की यह उपलब्धि सराहनीय है और अन्य संस्थाओं को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने इस उपलब्धि के लिए वन मंत्री, तथा वन विभाग और छत्तीसगढ़ राज्य वन विकास निगम के अधिकारियों को अपनी शुभकामनाएं दी।
वन मंत्री केदार कश्यप ने इस मौके पर मुख्यमंत्री श्री साय को छत्तीसगढ़ राज्य वन विकास निगम के कार्यों और उपलब्धियां की विस्तार से जानकारी दी। छत्तीसगढ़ वन विकास निगम के प्रबंध संचालक श्री तपेश कुमार झा ने बताया कि वन विकास निगम भारत सरकार द्वारा स्वीकृत कार्ययोजना अंतर्गत रोपित सागौन वृक्षारोपण के विरलन से प्राप्त वनोपज के विक्रय एवं अन्य आय से वित्तीय वर्ष 2022-23 में 69 करोड़ 44 लाख रुपए की आय प्राप्त हुई है। इस अवधि में निगम को कर पश्चात 52 करोड़ 65 लाख का रुपए का शुद्ध लाभ हुआ है। वर्ष 2022-23 में निगम द्वारा 1319 हेक्टेयर क्षेत्र में 20 लाख 98 हजार सागौन तथा प्रदेश में पर्यावरण सुधार हेतु डिपोजिट रोपण योजना अंतर्गत विभिन्न सार्वजनिक उपक्रमों से प्राप्त राशि से 8 लाख 82 हजार मिश्रित प्रजाति के पौधों का रोपण किया गया है।
 वन विकास निगम में वृक्षारोपण के विरलन से वित्तीय वर्ष 2022-23 में 15,653 घनमीटर ईमारती काष्ठ, 10 लाख नग बल्ली, 10,804 नग जलाऊ चट्टा तथा 426 नोशनल टन औद्योगिक बांस एवं 2,01,588 नग व्यापारिक बांस का उत्पादन हुआ है। वन विकास निगम द्वारा संपादित किये जा रहे कार्यों से राज्य के वनांचलों में वनवासियों एवं आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों के ग्रामीणों की सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ और उन्हें सतत् रोजगार का अवसर मिल रहा है। निगम द्वारा बैंक अथवा किसी वित्तीय संस्थान से कोई ऋण भी नहीं लिया गया है, न ही निगम को राज्य शासन से कोई अनुदान प्राप्त होता है। उन्होंने बताया कि वन विकास निगम राज्य में हरियाली के प्रसार एवं पर्यावरणीय विकास के लिए कृतसंकल्पित होकर काम कर रहा है।
और भी

छत्तीसगढ़ विधानसभा में उठा दवाओं में मिलावट का मुद्दा

  • स्वास्थ्य मंत्री ने दिया जवाब
रायपुर। विधानसभा बजट सत्र के दौरान शुक्रवार को सदन में भाजपा विधायक धरमलाल कौशिक ने दवाओं में मिलावट का मामला उठाया। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री श्‍याम बिहारी जायसवाल ने जवाब देते हुए कहा कि आयुर्वेदिक दवाओं में ऐलोपैथिक दवाईयां मिलाई जा रही है। जनवरी 2022 से नवंबर 2023 के बीच ऐसे 11 केस मिले हैं। मिलावट करने वालों के खिलाफ दर्ज प्रकरणों में चालान कोर्ट में पेश किया जाता है। मंत्री जायसवाल ने बताया कि 2022 में दर्ज सभी मामलों में चालान कोर्ट में पेश कर दिया गया है। 2023 के मामलों की विवेचना चल रही है। मंत्री ने बताया कि दवाओं के जांच की प्रक्रिया लगातार चलती है। इसके लिए प्रदेश में चलती वाहन में लैब रहते हैं। कहीं पर लगता है तो तत्‍कला वहीं पर जांच करते हैं। मंत्री राज्‍य के लैब में मानव संसाधन कम है। केवल 5 प्रतिशत ही पद है। हमारे पास केवल यह पता करने की व्‍यवस्‍था है कि दवा में मिलावट है या नहीं। कितनी मिलावट है यह जानने के लिए सैंपल बाहर भेजना पड़ता है।
और भी

अमित शाह का मिशन फतह छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश शुरू

रायपुर। मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के प्रमुख कारणों में से एक केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की रणनीति रही है। लोकसभा चुनाव से पहले केंद्रीय गृहमंत्री शाह ने इन दोनों राज्यों की चुनावी कमान संभालते हुए मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में फतह का मिशन शुरू कर दिया है। विधानसभा चुनाव में भाजपा ने दोनों राज्यों में बड़ी सफलता हासिल की। मध्य प्रदेश में जहां भाजपा ने सत्ता अपने हाथ में रखी, तो वही छत्तीसगढ़ में कांग्रेस से इसे छीन लिया। विधानसभा चुनाव की कमान पूरी तरह केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने संभाल रखी थी और उनकी व्यूह रचना के चलते ही भाजपा को बड़ी जीत मिली।
लोकसभा चुनाव करीब हैं और भाजपा ने मध्य प्रदेश की 29 और छत्तीसगढ़ की सभी 11 सीटों पर जीत हासिल करने का लक्ष्य तय किया है। केंद्रीय गृहमंत्री शाह गुरुवार को छत्तीसगढ़ के प्रवास पर रहे। उन्होंने बस्तर क्लस्टर के कोंडागांव में बैठक की और जांजगीर चांपा में जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने यहां भाजपा कार्यकर्ताओं को सभी 11 सीटों को जीतने का संकल्प दिलाया। पिछले चुनाव में भाजपा ने नौ और कांग्रेस ने दो सीटों पर जीत दर्ज की थी।
अमित शाह अब 25 फरवरी को मध्य प्रदेश के प्रवास पर आने वाले हैं। उनके ग्वालियर-चंबल, बुंदेलखंड और भोपाल में कार्यक्रम प्रस्तावित है। राज्य की 29 सीटों में से 28 सीटें भाजपा के कब्जे में है और एकमात्र सीट छिंदवाड़ा पर कांग्रेस का कब्जा है। भाजपा आगामी चुनाव में सभी सीटों पर कब्जा जमाना चाहती है। लिहाजा उसी की रणनीति के तहत अमित शाह का मध्य प्रदेश दौरा हो रहा है। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि राज्य में राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा के आने से पहले केंद्रीय मंत्री अमित शाह का दौरा राजनीतिक तौर पर काफी अहम है।
और भी

विकसित भारत विकसित छत्तीसगढ़ कार्यक्रम कल

महासमुंद। विकसित भारत विकसित छत्तीसगढ़ कार्यक्रम कल 24 फरवरी को आयोजित है। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से बात करेंगे। यह कार्यक्रम पीएम संवाद के रूप में आयोजित होगा। जिला स्तरीय कार्यक्रम जिला मुख्यालय स्थित शंकराचार्य सांस्कृतिक भवन में प्रातः 9 बजे से प्रारम्भ होगा। विकसित भारत संकल्प यात्रा के तहत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राज्य सहित अन्य राज्यों के लाभार्थी से चर्चा करेंगे। कलेक्टर प्रभात मलिक ने कार्यक्रम के सफल के संबंध में अधिकारियों को आवश्यक दिशा- निर्देश दिए। जिला पंचायत सीईओ एस. आलोक ने कार्यक्रम स्थल का दौरा कर आवश्यक तैयारियों का जायजा लिया। इसके अलावा जनपद और विकासखंड स्तर पर भी तैयारी की जा रही है।
और भी

राजिम कुंभ कल्प का आयोजन 24 फरवरी से 8 मार्च तक

  • धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने मेला स्थल का किया निरीक्षण
  • अधिकारियों की बैठक लेकर सभी तैयारियां तेजी से पूर्ण करने के दिए निर्देश
  • इस वर्ष राजिम कुंभ कल्प को रामोत्सव के रूप में मनाया जायेगा
रायपुर। देश दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाने वाला राजिम कुंभ कल्प इस वर्ष 24 फरवरी माघपूर्णिमा से 8 मार्च महाशिवरात्रि तक आयोजित होगा। राज्य शासन ने इसे  राजिम कुंभ कल्प का नाम दिया है। इस वर्ष राजिम कुंभ कल्प को रामोत्सव के रूप में मनाया जायेगा। इसके लिए राजिम त्रिवेणी संगम में भव्य तैयारियां की जा रही है। राजिम कुंभ कल्प की तैयारियों को लेकर धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने विगत रात्रि मेला स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने मेला स्थल में मुख्य मंच, स्थानीय कलाकारों की प्रस्तुति के लिए सहायक सांस्कृतिक मंच, गंगा स्नान स्थल, साधु संतों के निवास, पेयजल, शौचालय, कुलेश्वर महादेव मार्ग एवं लोमश ऋषि आश्रम तक जाकर मेला के संबंध में की गई आवश्यक व्यवस्थाओं का जायजा लिया। साथ ही मेला स्थल में सभी जरूरी तैयारियों को तेजी से पूर्ण करने के निर्देश दिए। इस दौरान राजिम विधायक श्री रोहित साहू, कलेक्टर श्री दीपक अग्रवाल, एसएसपी श्री अमित तुकाराम कांबले सहित गरियाबंद, रायपुर और धमतरी जिले के अधिकारीगण एवं स्थानीय जनप्रतिनिधिगण मौजूद रहे।
मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने मेला स्थल में तैयारियों का जायजा लेने के उपरांत मेला स्थल में ही अधिकारियों की बैठक लेकर सभी कार्याे को तेजी से पूरा करने के निर्देश दिए। मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कुंभ मेला स्थल में पर्याप्त चिकित्सा व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। साथ ही लैब टेस्ट सुविधा, एंबुलेंस सहित आवश्यक एलोपैथिक और आयुर्वेदिक दवाइयों का स्टॉक रखने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी मंदिरों में व्हाइट वाश और लाइटिंग करने के निर्देश दिए। मंत्री श्री अग्रवाल ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को पर्याप्त बिजली आपूर्ति व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने पीएचई विभाग के अधिकारियों को निर्बाध पेयजल सुविधा और जरूरी शौचालय व्यवस्था विकसित करने के निर्देश दिए। इसके अलावा सड़कों में धूल न उड़े इसके लिए लगातार पानी का छिड़काव करने के निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि राजिम कुंभ कल्प 2024 के दौरान 3 दिन विशेष कार्यक्रम का आयोजन होगा। इसके अंतर्गत 24 फरवरी, 4 मार्च और 8 मार्च को राजिम त्रिवेणी संगम में विशेष स्नान का आयोजन किया जाएगा। राजिम कुंभ मेला के दौरान 15 दिनों तक विभिन्न सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। मेला में देशभर से साधु संत और श्रद्धालुओं का आगमन होगा।
और भी

राज्यपाल के नव नियुक्त सचिव यशवंत कुमार ने कार्यभार ग्रहण किया

रायपुर। राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन के नव नियुक्त सचिव यशवंत कुमार ने आज राजभवन में अपना कार्यभार ग्रहण किया। वे भारतीय प्रशासनिक सेवा के वर्ष 2007 बैच के अधिकारी हैं।
और भी

दुर्ग पुलिस ने निकाली मतदाता जागरूकता हेलमेट रैली

दुर्ग। कलेक्टर ऋचा प्रकाश चौधरी और पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ला के निर्देश पर हेलमेट एवं मतदाता जागरूकता हेलमेट रैली का आयोजन किया गया। जिसमें 250 शिक्षा विभाग के शिक्षकगण शामिल हुए। उप पुलिस अधीक्षक यातायात सतीष ठाकुर के नेतृत्व में लोगो को हेलमेट के प्रति जागरूक करने लिये किये जा रहे प्रयास के तहत जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से अधिकारी/कर्मचारी पुरूष शिक्षकगण एवं यातायात के अधिकारी/कर्मचारी के द्वारा हेलमेट रैली का आयोजन किया गया। पुरूष हेलमेट जागरूकता रैली को अश्वनी देवांगन, सीईओ जिला पंचायत दुर्ग द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।
रैली का मुख्य उद्देश्य वाहन चालको को हेलमेट एवं यातायात नियमों तथा मतदान के प्रति जागरूक करना जिसमें जिला शिक्षा अधिकारी के पुरूष अधिकारी कर्मचारी एवं शिक्षकगण तथा यातायता के अधिकारी/कर्मचारियों के द्वारा वाहन में यातायात नियम संबंधित वाहनो में तख्ती लिये पटेल चौक, इंदिरा मार्केट, अग्रसेन चौक, ग्रीन चौक, राजेन्द्र पार्क चौक, बस स्टेण्ड होते हुए जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में समाप्त हुआ। रैली समाप्ति उपरांत उप पुलिस अधीक्षक, यातायात सतीष ठाकुर द्वारा यातायात नियम एवं मतदान करने की शपथ दिलाई गई।
और भी

कोयला खदान में दबने से अब तक 3 लोगों की मौत

  • 2 लोग गंभीर रुप से घायल
कोरबा। कोरबा जिले में एसईसीएल की दीपका कोयला खदान में मिट्टी धंसने से 5 लोग दब गए। इनमें से दो को निकाल लिया गया था। हादसे में 3 लोगों की मौत हो गई है। हादसे की जानकारी मिलते ही मौके पर रेस्क्यू अभियान चलाया गया। सुबह तक चले रेस्क्यू में दो लोग तो सुरक्षित निकाले गए, लेकिन 3 लोगों को नहीं बचाया जा सका। बताया जा रहा है कि, हरदीबाजार थाना क्षेत्र के दीपका खदान के सुवाभोडी गांव में बम्हनी कोना निवासी 5 युवक गुरुवार दोपहर 3 बजे कोयला चोरी करने गए थे। तभी अचानक मिट्टी का एक बड़ा हिस्सा धंसक कर उनके ऊपर आ गिरा। खबर मिलते ही बचाव दल ने रेस्क्यू अभियान शुरू किया। हादसे की खबर मिलते ही प्रशासन के अधिकारी बचाव दल के साथ मौके पर पहुंचे।
पहले मलबे में दबे दो युवकों प्रदीप पोर्ते (18 वर्ष) और शत्रुघ्न कश्यप (23 वर्ष) को बाहर निकाला गया। वहीं, एक किशोर लक्ष्मण ओढ़े (17 वर्ष) खदान के नीचे गहराई में घायल हालत में मिला। शुक्रवार तड़के उसे भी बाहर निकाला गया। मिट्टी धंसकने के बाद लक्ष्मण गहराई में गिरा था। रेस्क्यू करते समय बचाव दल की नजर उस पर पड़ी। वह टीम को अपना खून से सना हाथ दिखा रहा था। प्रशासन ने माइंस में रात भर रेस्क्यू चलाया। इस दौरान कलेक्टर, एसपी समेत तमाम अधिकारी रात भर डंट रहे। माइंस से दो युवकों को सुरक्षित तो तीन लोगों के शव निकाले गए हैं।
इस हादसे में प्रदीप पोर्ते (18 वर्ष), शत्रुघ्न कश्यप (27 वर्ष) और लक्ष्मण मरकाम की मौत हो गई। लक्ष्मण मरकाम ने इलाज के दौरान दम तोड़ा। वहीं, अमित कुमार (17 वर्ष) और लक्ष्मण ओढ़े को सुरक्षित निकाल लिया गया है। घायलों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हरदी बाजार में भर्ती कराया गया है। हादसे में घायल अमित ने बताया कि पांचों एक ही गांव के रहने वाले थे। कोयला निकालने गए थे, इस दौरान ये हादसा हो गया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू अभियान चलाया। SECL प्रबंधन का दावा है कि यह सभी लोग प्रतिबंधित क्षेत्र में घुसकर कोयला निकाल रहे थे। इस इलाके में किसी को भी जाने की इजाजत नहीं है। मिट्टी खोदकर कोयला निकालने की कोशिश की जा रही थी। इसी दौरान मिट्टी भरभराकर लोगों पर गिर गई और तीन लोग इसकी चपेट में आ गए, जिससे उनकी मौत हो गई है। देर रात तक SECL और जिला प्रशासन ने रेस्क्यू अभियान चलाया गया।
 
और भी

सदन में उठा सुपेबेड़ा में स्वास्थ्य व्यवस्था का मामला

  • मंत्री श्याम बिहारी ने कहा- कल ही हमने 5 डॉक्टरों की नियुक्ति है
रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र का आज 14वां दिन है। सदन में प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस विधायक जनक ध्रुव ने सुपेबेड़ा में स्वास्थ्य व्यवस्था का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि सुपेबेड़ा में किडनी की बीमारी से 135 लोगों की मौत हो चुकी है। वीआईपी मूवमेंट के दौरान मुन्ना भाई एमबीबीएस की तर्ज पर एक कमरे की साज सज्जा कर दी जाती है। क्या सेटअप के अनुसार स्वीकृति दी जाएगी।
सवाल का जवाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्री श्याम बिहारी ने बताया कि सुपेबेड़ा में सौ बिस्तर का सेटअप है। कल ही हमने 5 डॉक्टरों की नियुक्ति है। सुपेबेड़ा के लिए कल ही डॉक्टरों का दल बना दिया है।
कांग्रेस विधायक इंद्र साव ने कहा कि निजी अस्पताल गंभीर इलाज के लिए लाए गए मरीजों के आयुष्मान से इलाज नहीं किया जाता। सभी निजी अस्पतालों को निर्देश करेंगे की सबसे पहले जान बचाने इलाज करेंगे क्या? मंत्री ने कहा कि आयुष्मान योजना के तहत शत-प्रतिशत इलाज की व्यवस्था है। मरीज से अलग से चार्ज नहीं लिया जाता। शिकायत मिलने पर कार्रवाई होगी।
और भी

महाराष्ट्र के राज्यपाल रमेश बैस शनिवार को आ रहे हैं रायपुर

  • अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में होंगे शामिल
रायपुर। महाराष्ट्र के राज्यपाल रमेश बैस शनिवार को रायपुर आ रहे हैं। रमेश बैस शाम 5 बजे मुम्बई से रायपुर पहुंचेंगे। वे यहां विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होंगे। जारी कार्यक्रम के अनुसार रमेश बैस राष्ट्रीय समाज विज्ञान परिषद और अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय बिलासपुर के संयुक्त तत्वावधान में बिलासपुर में 25 फरवरी को 11.30 बजे आयोजित छठवीं वार्षिक कांफ्रेंस का उदघाटन करेंगे। वे अगले दिन 25 की रात मुंबई लौटेंगे।
और भी

राजभवन से हटाए गए अमृत खलको, IAS यशवंत कुमार नए सचिव

रायपुर। राज्य शासन ने अमृत खलको को राज्यपाल के सचिव पद से हटा दिया है। उनके स्थान पर 07 बैच के आईएएस संचालक ग्रामोद्योग यशवंत कुमार को अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।
बता दें कि अमृत खलको को रिटायरमेंट के बाद से कांग्रेस सरकार द्वारा दी गई संविदा नियुक्ति पर कार्यरत रहे। नई सरकार आने के बाद से हुए पिछले दो बड़े फेरबदल में भी उन्हें नहीं हटाया गया था।
उन्हें हटाए जाने के पीछे एक पीएससी 21 के घोटाले में उनके पुत्र और पुत्री का चयन होना बताया गया है। इस मामले में ईओडब्लू/एसीबी में एफआईआर दर्ज हो चुकी है और सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश भी कर दी है।
और भी

गरीब परिवारों का पक्के आवास का सपना हो रहा साकार

  • प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत जिले में अब तक 50 हजार से अधिक मकान पूर्ण
बिलासपुर। प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत जिले के गरीब परिवारों के पक्के आवास का सपना साकार हो रहा है। योजना के तहत जिले में अब तक कुल 59 हजार से अधिक मकान स्वीकृत किये गए हैं। जिनमें से अब तक कुल 50 हजार 8 सौ 72 मकान पूर्ण हो चुके हैं। ग्रामीण क्षेत्र के हितग्राहियों ने पक्का मकान मिलने पर खुशी जताते हुए सरकार को धन्यवाद दिया है।
प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत लाभान्वित होने वाले हितग्राहियों ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि सरकार की मद्द से पक्के आवास का उनका सपना अब साकार हुआ है। तखतपुर ब्लाॅक के ग्राम पंचायत केकड़ार के सुरेश मरकाम ने कहा कि पहले वे कच्चे मकान में रहते थे जिससे बहुत परेशानियां होती थी। योजना के तहत पक्का आवास मिलने से अब परिवार को बड़ी राहत मिली है। कोटा के ग्राम सिलदहा के ग्रामीण राजू प्रसाद यादव ने कहा कि कच्चे मकान में बारिश के समय उन्हें काफी परेशानी उठानी पड़ती थी। योजना के तहत पक्का आवास मिलने से परिवार बेहद खुश है। इसी गांव के हितग्राही चन्द्रशेखर श्यामले ने कहा कि योजना से उनके परिवार को कच्चे मकान से होने वाली दिक्कतों से छुटकारा मिला। पक्के मकान में अब परिवार खुशी-खुशी जीवन व्यतीत कर रहा है। हितग्राहियों ने केन्द्र सरकार का धन्यवाद देते हुए योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए जिला प्रशासन का आभार व्यक्त किया।  
गरीब परिवारों को पक्का आवास देने की केन्द्र सरकार की महत्वपूर्ण योजना प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण से जिले के सभी ब्लाॅक के ग्राम पंचायतों के हितग्राही लाभान्वित हो रहें है। वित्तीय वर्ष 2016-17 से 2022-23 तक योजना के तहत जिले के बिल्हा ब्लाॅक में 18 हजार मकान स्वीकृत किये गये जिनमें से 15 हजार से अधिक मकान पूर्ण हो चुके हैं। कोटा ब्लाॅक में लगभग 14 हजार मकान स्वीकृत है जिनमें 11 हजार 2 सौ 36 मकान बनकर तैयार है। मस्तूरी ब्लाॅक में लगभग 16 हजार मकान स्वीकृत किए गए है जिनमें से 14 हजार 1 सौ 53 मकान बन चुके है। तखतपुर ब्लाॅक में योजना के तहत लगभग 11 हजार से ज्यादा मकान स्वीकृत है जिनमें से 9 हजार 8 सौ 3 मकान पूरे हो चुके है।
और भी

श्रीरामलला दर्शन योजना के क्रियान्वयन के लिए प्रक्रिया शुरू

  • कलेक्टरों को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी
रायपुर। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय के निर्देशन में श्रीरामलला दर्शन योजना के क्रियान्वयन के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। योजना के संबंध में पर्यटन विभाग ने कलेक्टरों को विस्तृत दिशा निर्देश जारी कर दिये गए हैं। इसमें श्रीरामलला दर्शन (अयोध्या धाम) या़त्रा के लिए यात्रियों की समुचित व्यवस्था के संबंध में विस्तार से बताया गया है। कलेक्टरों से कहा गया है कि यात्रा के लिए पहली स्पेशल ट्रेन शीघ्र प्रारंभ होगी, अतः नियमानुसार यात्रियों का चयन कर सूची और प्रतीक्षा सूची यथाशीघ्र भेजना सुनिश्चित करें। यात्रा के लिए हितग्राहियों के चुनाव एवं अन्य कार्य संपादन का काम कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित जिला स्तरीय समिति द्वारा किया जाएगा। योजना के लिए श्रीरामलला दर्शन (अयोध्या धाम) यात्रा कोष भी स्थापित किया जाएगा।
आवेदन की प्रक्रिया-
श्री रामलला दर्शन योजना के तहत अयोध्या धाम यात्रा के लिए निर्धारित प्रारूप में आवेदन ग्राम पंचायत या शहरी क्षेत्रों में नगरीय निकाय (नगर पंचायत, नगर पालिका, नगर निगम) में देना होगा। आवेदन के साथ नवीनतम रंगीन फोटो के साथ ही पहचान और निवास के साक्ष्य के लिए राशनकार्ड, ड्राईविंग लाईसेंस, बिजली बिल, मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड या राज्य सरकार द्वारा स्वीकार्य अन्य दस्तावेज प्रस्तुत करना होगा। आवेदक को किन्ही दो व्यक्तियों के नाम और जानकारी देना होगा, जिनसे आपात स्थिति में सम्पर्क किया जा सके। इनमें से एक नाम निर्देशित व्यक्ति का मोबाईल नंबर देना होगा। ग्राम पंचायत और नगरीय निकाय योजना के लिए इच्छुक आवेदकों की सूची कलेक्टर की ओर प्रेषित करेंगे।
श्री रामलला दर्शन योजना अंतर्गत 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति को जिसने अकेले यात्रा करने हेतु आवेदन किया है, को अपने साथ एक सहायक को यात्रा पर ले जाने की पात्रता होगी। व्यक्तियों के समूह द्वारा आवेदन करने पर 3 से 5 व्यक्तियों के समूह को एक सहायक ले जाने की पात्रता होगी, बशर्ते कि इस समूह का प्रत्येक व्यक्ति 65 वर्ष से अधिक आयु का हो। बड़े समूह में प्रति 05 यात्रियों पर 01 के मान से सहायक मान्य किये जाएंगे। पति-पत्नी के साथ-साथ यात्रा करने पर सहायक को साथ ले जाने की सुविधा नहीं रहेगी बशर्ते उनमें से किसी एक की उम्र 65 वर्ष से कम हो।
आवेदक पति-पत्नी हो तो चयन प्रक्रिया-
यदि आवेदक पति-पत्नी में से किसी का नाम चुना जाता है तो उसका जीवन साथी भी यात्रा पर साथ जा सकेगा। आवेदन करते समय ही आवेदक को यह बताना होगा कि उसका जीवन साथी भी उसके साथ यात्रा करने का इच्छुक है, ऐसी स्थिति में उक्त जीवन साथी का आवेदन भी आवेदक के आवेदन के साथ ही संलग्न करना होगा। यदि सहायक को यात्रा पर साथ ले जाने की पात्रता है तो उस सहायक का आवेदन भी आवेदक के साथ ही जमा किया जायेगा।
व्यक्तियों के समूह के लिए नियम और प्रक्रिया-
यदि व्यक्तियों के समूह एक साथ आवेदन करते हैं तो संपूर्ण समूह को एक आवेदन मानते हुए लॉटरी में सम्मिलित किया जाएगा। उक्त समूह अधिक से अधिक 10 आवेदकों का हो सकेगा। समूह का एक आवेदक समूह का मुखिया कहलायेगा। अन्य सभी आवेदकों के आवेदन उसके आवेदन के साथ संलग्न कर जमा किये जाएंगे। यदि उक्त समूह में सम्मिलित व्यक्तियों को सहायक ले जाने की पात्रता है तो प्रस्तावित सहायकों के आवेदन भी इसी आवेदन के साथ संलग्न किए जाएंगे। समूह में सम्मिलित समस्त व्यक्तियों की, जिसमें सहायक भी सम्मिलित होंगे, संख्या 10 से अधिक नहीं होगी। सहायक को यात्रा पर ले जाने की दशा में उसे भी उसी प्रकार की सुविधा प्राप्त होगी जो कि यात्री को मिलेंगी। यात्रियों की सुविधा के लिए निर्धारित प्रपत्र अनुसार ऑन लाईन आवेदन की प्रक्रिया भी तैयार की जा रही है। जिससे प्रत्येक जिले में चयनित यात्रियों, प्रतीक्षा सूची का डाटा बेस तैयार हो सके।
चयन की प्रक्रिया-
यात्रियों का चयन कलेक्टर द्वारा निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार किया जाएगा। आवेदनकर्ताओं में से प्रथम चरण में 55 वर्ष अथवा उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों को प्राथमिकता से चयन किया जाएगा। योजना के लिए हितग्राही की न्यूनतम उम्र 18 वर्ष व अधिकतम उम्र 75 वर्ष रहेगी। यात्रा के लिए 25 प्रतिशत हितग्राही शहरी क्षेत्र और 75 प्रतिशत हितग्राही ग्रामीण क्षेत्र के होंगे। आवेदनों में से उपलब्ध कोटे के अनुसार यात्रियों का चयन किया जाएगा। यदि निर्धारित कोटे से अधिक संख्या में आवेदन प्राप्त होते हैं, तो लाटरी द्वारा यात्रियों का चयन किया जाएगा। कोटे के 25 प्रतिशत अतिरिक्त व्यक्तियों की प्रतीक्षा सूची भी बनायी जाएगी। चयनित यात्री के यात्रा पर न जाने की स्थिति में प्रतीक्षा सूची में सम्मिलित व्यक्ति को यात्रा पर भेजा जा सकेगा। प्रत्येक यात्रा में यात्रियों की कुल संख्या 850 निर्धारित हैं, जिसे 1000 तक बढ़ाया जा सकता है। इसमें सहायकों की संख्या भी शामिल है।
चयनित यात्रियों एवं प्रतीक्षा सूची को कलेक्टर कार्यालय के नोटिस बोर्ड पर संबंधित ग्राम पंचायत एवं नगरीय निकाय के माध्यम से एवं अन्य ऐसे माध्यम से, जो कि उचित समझे प्रसारित किया जाएगा। केवल वह व्यक्ति ही जिसका चयन किया गया है, यात्रा पर जा सकेगा, वह अपने साथ अन्य किसी अनाधिकृत व्यक्ति को नहीं ले जा सकेगा। चयन उपरांत वह व्यक्ति यात्रा पर न जाने की स्थिति में अपने स्थान पर अन्य किसी दूसरे व्यक्ति को नहीं भेज सकेगा। कलेक्टर द्वारा चयनित यात्रियों की सूची, छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड को भेजी जाएगी। टूरिज्म बोर्ड द्वारा सूची आई.आर.सी.टी.सी. अथवा चयनित अन्य एजेंसी को प्रेषित की जाएगी।
यात्रा पर ले जाने की प्रक्रिया-
प्रत्येक जिले के जिला प्रशासन द्वारा, उनके जिले के चयनित यात्रियों को उनके निवास स्थान से ब्लॉक स्तर या तहसील स्तर में निर्धारित स्थान, एवं उनके जिले में निर्धारित रेल्वे स्टेशन/बस स्टॉपेज तक, ट्रेन, बस के निर्गमन की निर्धारित तिथि व समय के 1 घंटे पूर्व समुचित वाहन से निःशुल्क लाया जाना सुनिश्चित किया जावेगा। वापसी में यात्रा समाप्ति उपरांत यात्रियों को पूर्व निर्धारित स्थल पर छोड़ने की सम्पूर्ण जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।
हितग्राहियों के लिए आवश्यक हिदायतें-
यात्रा पर रवाना होने के पूर्व प्रत्येक हितग्राहियों का मेडिकल टेस्ट किया जायेगा। अनफिट पाये गये यात्रियों के स्थान पर वेटिंग में शामिल व्यक्तियों को भेजा जा सकेगा। यात्रियों को अपनी जरूरत के संबंधित दवाएं, गर्म कपड़े आदि रखने होंगे और सामान की सुरक्षा की जिम्मेदारी भी यात्री की ही होगी। यात्रियों को अपने संपर्क अधिकारी के निर्देशों का पालन करना होगा। उन्हें यह भी सलाह दी गई है कि यथासंभव महंगे सामान जैसे आभूषण आदि न रखें।
और भी

बोर्ड परीक्षार्थियों के भय और तनाव को दूर करने हेल्पलाइन

  • टोल फ्री नंबर-18002334363 पर हो रहा फोन काल का निराकरण
रायपुर। बोर्ड परीक्षार्थियों के परीक्षा संबंधी भय और तनाव को दूर करने के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आज 22 फरवरी से एक हेल्पलाइन शुरू कर दी है। हेल्पलाइन में स्थापित टोल फ्री नंबर-18002334363 पर गुरुवार को पहला दिन परीक्षा भय एवं तनाव संबंधी समस्याओं से संबंधित 61 फोन काल प्राप्त हुए, इनका निराकरण मनोवैज्ञानिक, मनोचिकित्सक, विषय विशेषज्ञ, मंडल के अधिकारियों द्वारा करते हुए परामर्श दिया गया।
हेल्पलाईन में गुरुवार को अंग्रेजी विषय की विषय विशेषज्ञ सुश्री अंजू सूद ने अंग्रेजी विषय की परीक्षा के तैयारी के संबंध में विद्यार्थियों की समस्याओं का समाधान किया और मनोचिकित्सक डॉ. स्वाती शर्मा द्वारा तनाव संबंधी समस्याओं का निराकरण किया गया। हेल्पलाईन में छत्तीसगढ़ राज्य के दूरस्थ अंचलों जैसे - कोरबा, बस्तर, जांजगीर-चांपा, कवर्धा, सारंगढ़, अम्बिकापुर और अन्य जिलों के विद्यार्थियों द्वारा प्रश्न पूछे गए। हेल्पलाईन का संचालन मंडल के उप सचिव  जे.के. अग्रवाल के मार्गदर्शन में किया जा रहा है। शुक्रवार 23 फरवरी को गणित विषय के विषय विशेषज्ञ  अखिल खरे और मनोवैज्ञानिक डॉ. वर्षा वरवंडकर विद्यार्थियों की समस्याओं के निराकरण के लिए हेल्पलाईन में उपस्थित रहेंगी।
उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा हाई स्कूल, हायर सेकण्डरी, हायर सेकेण्डरी व्यावसायिक परीक्षाओं के संदर्भ में परीक्षा प्रारंभ होने के पूर्व यह हेल्पलाइन प्रारंभ की गई है। विद्यार्थी, शिक्षक और अभिभावक प्रातः 10 से शाम 5 बजे तक हेल्पलाइन में मंडल के टोल फ्री नंबर-18002334363 पर अपनी समस्याओं का समाधन कर सकते हैं। रविवार और अवकाश को छोड़कर हेल्पलाइन में मनोचिकित्सक, मनोवैज्ञानिक, शैक्षिक अभिप्रेरक विषय विशेषज्ञ एवं मंडल के अधिकारी उपस्थित रहेंगे।
और भी

स्वास्थ्य मंत्री के विभागों के लिए 6206 करोड़ रुपये से अधिक की अनुदान मांगे पारित

  • एम्स की तर्ज पर प्रदेश के सभी संभाग मुख्यालय में बनेगा सुपरस्पेशिलिटी अस्पताल
  • छत्तीसगढ़ में लोगों को त्वरित स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने ड्रोन सेवा और रोबोट टेक्नोलॉजी
रायपुर। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा तथा बीस सूत्रीय कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल के विभागों से संबंधित 6206 करोड़ 51 लाख 52 हजार रूपए की अनुदान मांगें गुरुवार को छत्तीसगढ़ विधानसभा में चर्चा के बाद सर्वसम्मति से पारित कर दी गई। इनमें लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के लिए 4,413 करोड़ 16 लाख 5 हजार रूपए, चिकित्सा शिक्षा विभाग के लिए 1,788 करोड़ 86 लाख 12 हजार रुपए तथा बीस सूत्रीय कार्यान्वयन विभाग के लिए 4 करोड़ 49 लाख 35 हजार रूपए की राशि शामिल है। स्वास्थ्य मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल ने अनुदान मांगों पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रदेश में त्वरित स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए ड्रोन सेवा के साथ-साथ आधुनिक चिकित्सा सेवा जैसे रोबोट टेक्नोलॉजी व रोबोट डॉक्टर की सुविधा उपलब्ध कराने की घोषणा की। उन्होंने रायपुर-बिलासपुर राष्ट्रीय राजमार्ग में स्थान चिन्हांकित कर ट्रामा सेंटर खोलने की भी घोषणा की।
स्वास्थ्य मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल ने सदन में कहा कि अगले वित्तीय वर्ष के बजट में एम्स की तर्ज पर सभी संभागीय मुख्यालयों में सुपरस्पेशिलिटी अस्पताल खोलने का प्रावधान किया गया है। इसके साथ ही राज्य के दूरस्थ अंचलों के 6 जिला अस्पतालों गरियाबंद, कवर्धा, मुंगेली, रायगढ़, बैकुण्ठपुर और नारायणपुर को आदर्श जिला अस्पताल के रूप में विकसित किया जाएगा। इसके लिए 20 करोड़ रूपए का बजट प्रावधान रखा गया है। इस राशि से इन अस्पतालों में आवश्यकतानुसार मशीनें, अधोसंरचना तथा मानव संसाधन उपलब्ध कराए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश के गरीब-मजदूर सहित जरूरतमंद मरीजों के इलाज हेतु मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय के नेतृत्व में हमारी सरकार ने सब की चिंता की है। इसके लिए शहीद वीरनारायण सिंह आयुष्मान स्वास्थ्य योजना के तहत गरीबों को 5 लाख रूपए तक के निःशुल्क इलाज की सुविधा दी जाएगी। उन्होंने सदन में बताया कि दूर-दराज के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में पैथोलॉजी जांच की सुविधा उपलब्ध कराने नए बजट में 393 लैब टेक्निशियन के नवीन पदों का सृजन किया गया है। साथ ही दूरस्थ अंचलों के लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने हेतु 57 नए मोबाइल मेडिकल यूनिट का भी इस बजट में प्रावधान किया गया है।
लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने अनुदान मांगों पर हुई चर्चा पर जवाब देते हुए कहा कि निरोगी होना परम भाग्य है और अच्छे स्वास्थ्य से अन्य सभी कार्य सिद्ध होते हैं। मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय के नेतृत्व में हमारी सरकार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी मोदी की गारंटी को पूरा कर रही है। उन्होंने सदन में बताया कि हमने वर्ष 2024-25 के बजट में राज्य के 5 नये जिलों सक्ती, खैरागढ़-छुईखदान-गण्डई, मोहला-मानपुर-अंबागढ़ चौकी, मनेन्द्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर एवं सारगंढ-बिलाईगढ़ में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय के लिए 165 नए पदों का प्रावधान किया है। मनेन्द्रगढ़ एवं कुनकुरी में 220 बिस्तर अस्पताल खोलने के साथ ही इनके भवन निर्माण का भी प्रावधान किया गया है। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खड़गवां का सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में उन्नयन, बिलासपुर उच्च न्यायालय के आवासीय परिसर में नवीन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने तथा कुरूद सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का 50 बिस्तर से 100 बिस्तर अस्पताल में उन्नयन का प्रावधान आगामी वर्ष के बजट में रखा गया है।
स्वास्थ्य मंत्री ने सदन में बताया कि वर्ष 2024-25 के बजट में 18 नये प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने का प्रावधान किया गया है। ये नए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ग्राम गोडखाम्ही अखरार, डिडोरी (ची) जिला मुंगेली, गोलावण्ड जिला कोण्डागाव, नगर निगम चिरमिरी अन्तर्गत कोरिया कालरी, ग्राम सेवारी जिला बलरामपुर, ग्राम पोडागुडा एवं चितापुर जिला बस्तर, ग्राम मुरमा, जिला बैकुण्ठपुर ग्राम पंचायत करदेगा, ग्राम पेटामारा (अंकिरा), ग्राम गन्झियाडीह, ग्राम केराडीह एवं सिरिमकेला जिला जशपुर तथा रायपुर, बिलासपुर, सरगुजा एवं जगदलपुर एयरपोर्ट में खोले जाएंगे। लकवा और वातरोग के पीड़ितों तथा नशामुक्ति के लिए लोगों को उनके रहवास के समीप फिजियोथेरेपी, मानसिक स्वास्थ्य एवं नशा मुक्ति की काउंसलिंग व योग परामर्श प्रदान करने के लिए सभी शहरी स्वास्थ्य केन्द्रों में फिजियोथेरेपिस्ट, योग शिक्षा एव नशा मुक्ति परामर्शदाता की सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। उन्होंने जगदलपुर, चिरमिरी और रायपुर में मानसिक चिकित्सालय खोलने की बात भी कही।  
श्याम बिहारी जायसवाल ने सदन में बताया कि प्रदेश के 123 अस्पताल राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन मानक प्रमाण-पत्र प्राप्त हैं। भारत सरकार द्वारा सभी राज्य सरकारों को चिकित्सालयों को एन.क्यू.ए.एस. के मापदण्डों के अनुरूप सुविधाओं से युक्त कर प्रमाण-पत्र प्राप्त करने के निर्देश जारी किये गये हैं। इस बजट में हमने 12 जिला अस्पतालों एवं 95 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में मानकों के अनुरूप सुविधायें उपलब्ध कराकर एन.क्यू.ए.एस. सर्टिफिकेट प्राप्त करने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए बजट में 12 करोड़ रूपए का प्रावधान रखा गया है। उन्होंने कहा कि जनसामान्य को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ-साथ आयुष पद्धतियों का भी राज्य में निरंतर विकास एवं विस्तार किया जा रहा है। वर्ष 2024-25 हेतु कुल राशि रुपए 442.68 करोड़ रूपए का बजट प्रावधान किया गया है। वर्ष 2024-25 के बजट में औषधि हेतु 23.26 करोड़ रूपए और चिकित्सकीय उपकरण हेतु 3.92 करोड़ रूपए का बजट प्रावधान किया गया है। वर्ष 2024-25 में 7 आयुर्वेद चिकित्सालय, 12 आयुष पॉलीक्लीनिक एवं 692 आयुष औषधालयों का जनभागीदारी के माध्यम से उन्नयन एवं सुविधाएं प्रदाय किये जाने हेतु राशि रूपए 2.12 करोड़ रूपए का बजट प्रावधान किया गया है।
चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने सदन में बताया कि अम्बिकापुर में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की भांति छत्तीसगढ़ इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (सिम्स) सुपरस्पेशिलिटी चिकित्सालय की स्थापना हेतु चिकित्सकीय उपकरण क्रय करने 10 करोड़ रूपए तथा भवन निर्माण हेतु 40 करोड़ रूपए, इस प्रकार कुल 50 करोड़ रूपए का बजट प्रावधान रखा गया है। बिलासपुर चिकित्सा महाविद्यालय एवं सम्बद्ध चिकित्सालय को नवीन स्थल में स्थानांतरित करने की मांग काफी समय से की जा रही थी जिसे ध्यान में रखते हुए छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान, बिलासपुर के लिए 700 करोड़ रूपए की लागत से कोनी में नवीन भवन निर्माण किया जाना है। इस हेतु भवन निर्माण कार्य हेतु 10 करोड़ रूपए बजट प्रावधान है। रायपुर के डॉ. भीमराव अम्बेडकर अस्पताल के 650 बिस्तरों से 1200 बिस्तरों के अस्पताल के रूप में उन्नयन के लिए 778 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।
और भी

स्कूलों में बनेगी नई शाला प्रबंध समिति : बृजमोहन अग्रवाल

  • मूल पदस्थापना शालाओं में लौटेंगे शिक्षक : स्कूल शिक्षा मंत्री
रायपुर। स्कूल शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने स्कूल शिक्षा सचिव को स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत नवीन शाला प्रबंध समिति एवं विकास समिति गठन की कार्रवाई सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने इस संबंध में स्कूल शिक्षा सचिव जिला-कलेक्टरों को निर्देशित किया है कि जिलों के प्रभारी मंत्री के अनुमोदनोपरान्त नवीन शाला प्रबंध एवं विकास समिति का गठन किया जाए। उन्होंने कहा है कि शाला प्रबंध एवं विकास समिति अपने बैठक में विद्यालय हित में निर्णय पारित कर राशि व्यय करने में सक्षम होगा, इस हेतु उच्च कार्यालय से अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी। उल्लेखनीय है कि स्कूल शिक्षा विभाग के अन्तर्गत शाला प्रबंध एवं विकास समिति को 18 जनवरी 2024 को भंग किया जा चुका है।
मूल पदस्थापना शालाओं में लौटेंगे शिक्षक : स्कूल शिक्षा मंत्री
स्कूल शिक्षा विभाग के शिक्षक संवर्ग के कर्मचारी गैर शिक्षकीय कार्य हेतु विभिन्न कार्यालयों एवं संस्थाओं में संलग्न किया गया है ऐसे शिक्षक अपने मूल पदस्थापना शाला में अध्यापन कार्य हेतु शीघ्र ही कार्यमुक्त होंगे। स्कूल शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने इस संबंध में स्कूल शिक्षा सचिव को त्वरित कार्रवाई करने के निर्देश देते हुए कहा कि संभागायुक्त एवं जिला कलेक्टरों को निर्देशित करना सुनिश्चित करें।
उल्लेखनीय है कि स्कूल शिक्षा विभाग के शिक्षक संवर्ग के कर्मचारी गैर शिक्षकीय कार्य हेतु विभिन्न कार्यालयों एवं संस्थाओं में संलग्न हैं और गैर शैक्षणिक संलग्नीकरण से शिक्षण कार्य प्रभावित हो रहा है। इस आशय की शिकायत स्कूल शिक्षा मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल को प्राप्त हो रही थी। शिकायकर्ताओं ने स्कूल में शैक्षणिक व्यवस्था के लिए त्वरित कार्रवाई करने का आग्रह किया था।
और भी

विधानसभा भ्रमण पर पहुंचे विद्यार्थियों ने की शिक्षा मंत्री से मुलाकात

  • विधानसभा की कार्यवाही से रूबरू हुए कॉलेज के छात्र-छात्राएं
रायपुर। विधानसभा भ्रमण छात्रों के लिए सरकार की कार्यप्रणाली को करीब से देखने का एक शानदार तरीका हो सकता है। यह उन्हें विधायिका की विभिन्न भूमिकाओं और जिम्मेदारियों के बारे में जानने और विधायिका के सदस्यों से मिलने का अवसर प्रदान कर सकता है।
गुरुवार को शासकीय जे योगानंदम छत्तीसगढ़ कॉलेज के पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन विषय में अध्ययनरत विद्यार्थी शैक्षिक भ्रमण कार्यक्रम के तहत छत्तीसगढ़ विधानसभा का भ्रमण किया। इस अवसर पर उन्होंने विधानसभा कार्यवाही को करीब से देखा और समझा। साथ ही विधानसभा सेंट्रल हॉल, लाइब्रेरी भी देखी। विद्यार्थियों ने शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल से मुलाकात की और अपने अनुभव साझा किया।
और भी
Previous123456789...680681Next

Jhutha Sach News

news in hindi

news india

news live

news today

today breaking news

latest news

Aaj ki taaza khabar

Jhootha Sach
Jhootha Sach News
Breaking news
Jhutha Sach news raipur in Chhattisgarh